॥ घृणिः ॥ ॐ नमो भगवतेऽजितवैश्वानरजातवेदसे ॥ घृणिः ॥

संपर्क करें

Sale!

Samavediya Sandhyopasana (Ebook)

50.00

साझा करें (Share)

Description

हर ब्राह्मणादि द्विजों के गोत्रों के माध्यम से भिन्न भिन्न वेद स्वीकृत हैं। उन वेदों की भिन्न भिन्न शाखाएं हैं तथा उनके गृह्यादि सूत्र भी भिन्न हैं। उनके अनुसार ही उस गोत्र के द्विज का आचार निश्चित होता है। संध्या द्विजाति का मूल आचार है। वेदानुसार इसमें भी वैषम्य है। सामवेद की यह संध्या पद्धति दक्षिण सामवेदीय संध्या पद्धति का रूप अवगत कराती है।

IF YOU FACING ANY KIND OF PROBLEM DURING PURCHASE THIS, PLEASE CONTACT – +917697206210 (WHATSAPP)

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Samavediya Sandhyopasana (Ebook)”

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: कॉपी न करें, शेयर करें। धन्यवाद।