॥ घृणिः ॥ ॐ नमो भगवतेऽजितवैश्वानरजातवेदसे ॥ घृणिः ॥

संपर्क करें

आचार्यश्री जी के विषय में…

 

आचार्यश्री कौशलेन्द्रकृष्ण जी छत्तीसगढ़ के कवर्धा जिले में उत्पन्न मग शाकद्वीपीय ब्राह्मण हैं। ये पौगण्डावस्था से ही श्रीरामचरित्र तथा १७ वर्ष की आयु से श्रीमद्भागवत, शिव, देवी आदि पुराणों का विशुद्ध या संगीतमय वाचन करते हैं। इनके पिता पं. श्री नन्दकिशोर शर्मा पौराणिक जी तथा माता श्रीमति कुसुम शर्मा है। बचपन से ही कौशलेन्द्रकृष्ण जी को भागवत तथा अन्य सनातन शास्त्रों के प्रति अगाध श्रद्धा रही है। बड़े होते हुए कई संतों का सानिध्य मिला। इस रुचि तथा इस सानिध्य के फलस्वरूप ये वर्तमान हैं।

भारतीय सनातन ग्रंथों के सतत अध्येता तथा ग्रंथों में विविध प्रश्नों का निष्कर्ष ढूँढते रहने वाले महाराज जी हैं। एक वार १७ वर्ष की आयु में देवी शक्ति का दर्शन करके उनकी स्वप्न में ही स्तुति कर संस्कृत रूपी आशीष प्राप्त करने वाले महाराज ही हैं। वस्तुतः इनका नाम “कौशलेन्द्र” है, किन्तु श्रीमलूकपीठाधीश्वर महाराज को यह नाम आधा लगा। ऐसे में श्री राजेन्द्रदेवाचार्य जी ने इनके नाम के साथ “कृष्ण” जोड़कर इन्हें अनुपम सन्त अनुग्रह रूपी उपहार दिया।

इनके द्वारा रचित पहला स्तोत्र “भवानीसप्तकम्”, जो कि एक बड़ा ही सिद्ध स्तोत्र है। यह वही स्तोत्र है जिसका निर्माण इन्होंने १७ वर्ष की आयु में स्वप्न में किया था। न तो व्याकरण का ज्ञान, न ही वाच्यादि का, तथापि संस्कृत में ऐसा सुन्दर श्लोक लिखना विलक्षणता ही थी। तब से अनवरत कुछ न कुछ लिखना चल ही रहा है। हिन्दी में भी, “तीव्र दामिनी वर्षा निर्मल” आदि इनकी मनमोहक कृतियाँ पाठ्य है।
यह वेबसाइट उनका आधिकारिक वेबसाइट है। आप ऊपर, नीचे स्थानों से उनसे फेसबुक पर भी जुड़ सकते हैं। अधिक पढ़ें…..

ख्वाब में आकर कन्हैया क्यूँ सताते हो?

   लेखक - आचार्यश्री कौशलेन्द्रकृष्ण जी   (कथावक्ता, श्लोककार, ग्रंथकार, कवि) ख्वाब में आकर कन्हैया क्यूँ सताते हो?जो जगूँ तो यूँ ही कैसे भाग जाते हो?रुक के पल भर देख लो रे ऐ मेरे ज़ालिमराधिका के नाम की आँसू बहाते हो।ख्वाब में नित ही लबों को चूम...

विप्राष्टकम्

   रचयिता - आचार्यश्री कौशलेन्द्रकृष्ण जी   (कथावक्ता, श्लोककार, ग्रंथकार, कवि) यस्याङ्घ्र्याभरणेन शोभिततमो लक्ष्मीप्रियः केशवोनित्यं वै मनुते वसन् फणधरस्यास्यां च दुग्धार्णवे।जायन्ते विविधाः प्रजा इह सदा क्षत्र्यादयो येन तद्वन्देऽहं प्रगतिश्च यस्य...

मोसे नैना मिलाइ के (संशोधित)

   संशोधक - आचार्यश्री कौशलेन्द्रकृष्ण जी   (कथावक्ता, श्लोककार, ग्रंथकार, कवि) प्रेम विवस कर दीन्ही रे मोसे नैना मिलाइ केचित मित सब हर लीन्हीं रे मोसे नैना मिलाइ के।प्रेम बटी का मदवा पिलइ के…मतवारी कर दीन्हीं रे मोसे नैना मिलाइ के।बल बल जाऊं मैं तोरे रंगरिजवाअपनी सी...

हिन्दू राम राम बस कहता है…

   लेखक - आचार्यश्री कौशलेन्द्रकृष्ण जी   (कथावक्ता, श्लोककार, ग्रंथकार, कवि) बैठा हिन्दू राम राम बस कहता है।राम धर्म से विस्मृत सा उल्टी धारा में बहताहिन्दू राम राम बस कहता है।वैदिक धर्मसूत्र से वंचितपैशाची मन से जो संचितचिन्तन से निर्मित पत्थर की...

शारदापराधक्षमापनम्

   रचयिता - आचार्यश्री कौशलेन्द्रकृष्ण जी   (कथावक्ता, श्लोककार, ग्रंथकार, कवि) सरससारससङ्कुलसंहित-स्थितिसुभाषितवैभवभूषिते।चिचरिषामि सुपादनखे वने-विविधवृक्षदलैर्दह मे मलम्॥१॥ सुन्दर कमल समूहों के निकट विद्यमान रहने वाले (हंस) के ऊपर स्थिति करने...
{

“अधिगतपरमार्थान् पण्डितान् माऽवमस्थास्तृणमिव लघुलक्ष्मीर्नैव तान् संरुणद्धि। अभिनवमदरेखाश्यामगण्डस्थलानां न भवति विसतन्तुर्वारणं वारणानाम्॥”

– भर्तृहरि

error: कॉपी न करें, शेयर करें। धन्यवाद।